थार की बूढ़ी माई

red velvet mites hindi, red velvet mites, red velvet video, red velvet mites, red velvet mite oil hindi

red velvet mites photo, red velvet mites pic, red velvet mites video
थार की बूढ़ी माई. दरअसल थार की बालुई रेत में गुलाबी या चटक लाल रंग का एक छोटा सा जीव आषाढ़ में या मानसून की पहली बारिश के साथ दिखाई देता है। चटक लाल रंग का या कोमल सा जीव आमतौर पर बारानी या खाली पड़े खेतों में घूमता मिलता है। दिखने में यह जीव बेहद मुलायम होता जैसे कि कोई बूढी नानी, मुलायम कोमल, झुर्रियों वाला, आंखों को अच्छाि लगने वाला शायद इसी कारण इसका नाम बूढ़ी नानी या बूढ़ी माई पड़ गया।

थार में इसे बूढी माई, तीज सावण री डोकरी व ममोल के नाम से भी पुकारा जाता है। तो हिंदी में इंद्रवधु व इंद्रगोप इसी के नाम है।

अंग्रेजी में इस बूढ़ी माई को रेड वेलवेट माइट Red Velvet Mite कहा जाता है जो ट्रोंबोबीडीडेई Trombidiidae) परिवार का है। जानकार इसे पूर्ण मकड़ीवंशी या लूता बताते हैं जो हर वक्त) शिकार पर रहता है। लेकिन इसे किसी पर हमला करते हुए नहीं देखा गया। यह मानव प्रजाति से दूर रहते हैं।

इस बूढ़ी माई को पर्यावरण के लिए बहुत महत्व‍पूर्ण माना जाता है. यह जीव मृदा संधिपाद या आर्थरोपाड समुदाय का एक हिस्साै है जो जंगलों या वनस्थ ली में सड़न प्रक्रिया (Decomposition) के लिए बहुत ही महत्व पूर्ण है और यह प्रक्रिया समूची पारिस्थितकी के लिए बहुत मायने रखती है. फंगी और बैक्टररिया को खाने वाले कीटों का फीड करते हुए यह छोटा जीव सड़न प्रक्रिया (Decomposition) को प्रोत्साहित करता है.

यह भी पढ़े

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन जयपुर

दुर्गापुरा जयपुर के कुछ प्रमुख रेलवे सब रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह जयपुर के दुर्गापुरा इलाके में हैं और जोधपुर, कोटा, मुंबई, इंदौर व श्रीगंगानगर की कई प्रमुख ट्रेन इस स्टेशन से होकर गुजरती हैं या यहां थोड़ी देर के लिए रुकती है।

Read More »
जवाहर सर्किल गार्डन जयपुर

जवाहर सर्किल गार्डन जयपुर

जवाहर सर्किल गार्डन जयपुर ही नहीं प्रदेश देश का अपनी तरह का सबसे बड़ा घूम यानी सर्किल पार्क है। यहां के बड़े से दरवाजे, फाउंटेन फव्वारे, बच्चों का झूलों का पार्क व जागर्स ट्रेक सभी को आकर्षित करते हैं।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण