सीरिया में रासायनिक हमला और असर

सीरिया में चार अप्रैल 2017 को हुए रासायनिक हमले ने सीरियाई संकट को एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बना दिया। इस हमले के बाद बढ़ते दबाव के बीच अमेरिका ने सीरिया पर मिसाइल हमले किए जबकि रूस असद सरकार के पक्ष में खड़ा नजर आया। दुनिया एक बार फिर दो धड़ों में बंटती नजर आई।

दरअसल सीरिया में इस रासायनिक हमले की खबरें पहले पहल कार्यकर्ताओं और निगरानी समूहों के हवाले से सामने आईं। प्रभावित बच्चों की भयावह तस्वीरों ने पूरी दुनिया को हिला दिया। इन समूहों के अनुसार अलेप्पो को होम्स से जोड़ने वाली सड़क पर खान शेखों नाम के कस्बे पर रासायनिक बम हमले हुए। इसमें कम से कम 80 लोग मारे गए। इनमें से ज्यादातर बच्चे-महिलाएं रहे। हमले के बाद बच्चों की तस्वीरें तो भयावह थीं।

इन हमलों का आरोप सीरिया की सरकारी सेनाओं पर गया। जिस कस्बे में उक्त हमले हुए वह इलाका पूरी तरह विद्रोही सेनाओं के कब्जे में है। सीरियाई मानवाधिकार एजेंसी के अनुसार राष्ट्रपति बशर अल असद की सीरियाई सेना और उसके सहयोगी रूस के विमान इस इलाके में बमबारी कर रहे थे। घायलों का इलाज करने वाले राहत कर्मियों और उपचार केंद्रों पर भी हमले हुए।

सीरिया की असद सरकार पर रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल का आरोप कई बार लगता रहा है। लेकिन इस बार शायद मामला उसके हाथ से निकल गया। हमले पर बवाल के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने इसकी निंदा की और कहा कि कि इसमें कोई शक नहीं कि यह जघन्य अपराध बशर अल असद की सरकार ने किया है। हमले की निंदा के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक बुलाई गई। वहीं सीरिया के रक्षा मंत्रालय ने दोहराया कि उनकी सेना ने प्रभावित इलाके में बमबारी नहीं की और उसने कभी रासायनिक गैसों का इस्तेमाल हमलों में नहीं किया। रूस ने भी सीरिया का बचाव किया और कहा कि उसने ऐसा कोई हमला नहीं किया।

सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद के समर्थन की अपनी घोषित नीति को पलटते हुए अमेरिका ने उसके सैनिक ठिकाने पर हमला किया। अमेरिका के टामहाक प्रक्षेपास्त्रों ने शायरात हवाई अड्डे को निशाना बनाया। भूमध्यसागर में तैनात दो अमरीकी लड़ाकू जहाजों से यह हमला किया गया। अमेरिका का मानना है कि सीरिया के विद्रोहियों वाले इलाके में रासायनिक हमले इसी एयर बेस से किए गए। हमलों के बाद ट्रंप ने टीवी पर अपने संदेश में कहा कि सीरिया के राष्ट्रपति असद एक तानाशाह हैं जिन्होंने मासूम लोगों पर रासायनिक हथियारों से हमला किया। सेना का कहना है कि उसने 50 टामहाक मिसाइल दागीं।

बताया गया कि अमेरिकी हवाई हमलों में चार बच्चों सहित कम से कम नौ लाग मारे गए। अमेरिकी कार्रवाई से नाराज रूस ने उसके साथ सीरिया में हवाई संघर्ष रोकने के एक समझौते को रद्द कर दिया और कहा कि वह सीरियाई वायुसेना की सुरक्षा को चाकचौबंद करेगा।

हमले पर बवाल के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने निंदा करते हुए कहा है कि इसमें कोई शक नहीं कि यह जघन्य अपराध बशर अल-असद की सरकार ने किया है। संग्दिध रासायनिक हमले को अमेरिका के राष्ट्रपति ने भयानक और अवर्णनीय करार देते हुए इसे मानवता पर आघात बताया। हमले की निंदा के लिए पांच अप्रैल को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाई गई।  बैठक में इस मुद्दे पर बहस हुई तो पश्चिमी देशों ने सीरियाई सरकार की कड़ी निंदा की। ब्रिटेन और फ्रांस चाहते थे कि रासायनिक हमले की जांच हो।

वहीं रूस ने सीरियाई सरकार का बचाव किया। रूस ने कहा कि उसके सीरियाई सहयोगी को इस हमले के लिए ज़िम्मेदार नहीं ठहराना चाहिए। वहीं सीरिया के रक्षा मंत्रालय ने एक बार फिर कहा कि उनकी सेना ने प्रभावित इलाके में बमबारी नहीं की और उसने कभी रासायनिक गैसों का इस्तेमाल हमलों में नहीं किया। उधर संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने हमलों को ‘नपी तुली प्रतिक्रिया’ बताया और कहा कि अमेरिका ‘और कुछ भी करने को तैयार है।’

रूस का वीटो: अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने 12 अप्रैल 2017 को सीरिया पर एक प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पेश किया। रूस ने इस पर अपने वीटो के अधिकार का इस्तेमाल करते हुए रोक लगा दी।
प्रस्ताव में सीरिया में विद्रोहियों से मांग की जा रही थी कि वे उनके ठिकाने पर हाल ही में हुए रासायनिक हमले की जांच में सहयोग करें।

रोचक तो यह है कि इससे कुछ ही घंटे पहले संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने संकेत दिया था कि ट्रंप प्रशासन सीरिया में लड़ाई खत्म करने के लिए रूस के साथ काम करना चाहता है।

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था। nohar in rajasthan history and fact. It is know for its historical background and rich culture.

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »
दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन जयपुर

दुर्गापुरा जयपुर के कुछ प्रमुख रेलवे सब रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह जयपुर के दुर्गापुरा इलाके में हैं और जोधपुर, कोटा, मुंबई, इंदौर व श्रीगंगानगर की कई प्रमुख ट्रेन इस स्टेशन से होकर गुजरती हैं या यहां थोड़ी देर के लिए रुकती है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण