nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था। यानी सात नदियों का पानी इसे सींचता था। महाभारत काल में यह इलाका कुरू प्रदेश में आ गया। जनश्रुतियों के अनुसार अज्ञातवात के दौरान पांडव इस इलाके में आए और नोहर के पास पांडूसर गांव में रहे। भले ही ये सुनी सुनाई बातें हों लेकिन यह भी सच है कि नोहर (nohar) हो या इसके पास के सोती व क्रोती गांव और वहां के थेहड़, वहां मिले मृदभांडों को महाभारतकालीन माना गया है।कहा जाता है कि ईसा से 1000 साल यानी आज से लगभग 3000 साल पहले यहीं सरस्वती व दृषदवती के डेल्टा में करोत नगर बसा हुआ था।

https://youtu.be/3pVMjW4JwKo

इतिहास की किसी किताब में लिखा है कि चीनी यात्री ह्वेनसांग अपनी भारत यात्रा के दौरान नोहर के इस इलाके में भी आया था। उसने यहां बौद्ध मठ देखे। उसके काल में यहां बौद्ध के साथ साथ जैन व हिंदू धर्म भी फल फूल रहा था। कहा जाता है कि प्राकृतिक बदलावों के बीच नदियों ने रास्ता बदल लिया या वे सूख गयीं और कभी वनाच्छादित रहे इस इलाके में बालू का जंगल उग आया जिसे थार कहा जाता है। जहां तक नोहर के नाम का सवाल है तो कहा जाता है कि नवहरा का अपभ्रंश नोहर है।
पूरी जानकारी के लिए कृपया वीडियो देखें। उम्मीद है आपको हमारा यह प्रयास पसंद आएगा। कोई कमीबेसी रह गयी हो, कोई सुझाव हो तो कृपया नीचे कमेंट बाक्स में जरूर लिखें। आप हमारे प्रयास में सहयोग करना चाहते हैं तो हमें मेल कर सकते हैं। कृपया चैनल को ज्यादा से ज्यादा सबस्क्राइब व शेयर कराएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.