रोलां गैरां की नयी राजकुमारी

jelena ostapenko profile hindi

jelena ostapenko profile hindi

जेलेना ओस्तापेंको पेशेवर टेनिस खिलाड़ी है जिसने दस जून 2017 को फ्रेंच ओपन महिला खिताब जीतकर सनसनी फैला दी। ला​तविया के लिए कोई ग्रेंड स्लेम  खिताब जीतने वाली वह ​पहली खिलाड़ी बनीं।

ला​तविया के रीगा में 8 जून 1997 को जन्मी जेलेना लातवियन के साथ साथ रूसी व अंग्रेजी भाषा की जानकार है। 

जेलेना ओस्तापेंको का आक्रामक टेनिस के लिए जाना जता है। उसे अपने निडर व आक्रामक खेल के लिए जाना जाता है और वह कापीबुक स्टाइल में नहीं खेलती बल्कि अपने नियम गढ़ती है। पेरिस की लाल बजरी पर उसने सिमोना हालेप को अपने इस बेलौस व निडर खेल से हतप्रभ करते हुए हरा दिया था और अपना पहला ग्रेंड स्लेम (फ्रेंच ओपन 2017) जीता उसने पांच साल की उम्र में टेनिस खेलना शुरू किया और वह सेरेना विलियम्स को आदर्श के रूप देखते हुए बड़ी हुईं। जेलेना ने अपना पहला डब्ल्यूटीए क्वालिफाइंग मैच 2012 में खेला। जेलेना ने जुलाई 2014 में क्रि​स्टीना श्मिदलोवा को हराकर विंबलडन जूनियर्स खिताब जीता था।

जेलेना का नाम उनकी मां जेलेना जाकोवलेवा व पिता जेवजेनिंजस ओस्तोपेंको के नाम से मिलकर बना। उनके अभिभावक भले ही ​फुटबाल के खिलाड़ी रहे लेकिन उन्होंने अपनी बे​टी को टेनिस के गुर सिखाए। मां कोच बनी तो पिता फिटनेस ट्रेनर|जेलेना बचपन में नृतकी बनना चाहती थी। स्कूली स्तर पर छोटी मोटी प्रतियोगिताओं में बैले डांसर के रूप में भाग लिया। टेनिस में अपने कदमों की चपलता के लिए वह बचपन में किए गए नृत्याभ्यास को भी श्रेय देती है।

रोलां गैरा 2017: पेरिस में फ्रेंच ओपन के फाइनल में 47वीं विश्व रैंकिंग वाली जेलेना ने तीसरी वरीयता धारी रोमानिया की सिमोना हालेप को हराया। उसने यह खिलाफ 20 साल की उम्र में जीता। इस तरह से 74 साल में पहली बार किसी गैर वरीय खिलाड़ी ने फ्रेंच ओपन में खिताब जीता। इसी तरह बीस साल और दो दिन की उम्र के साथ स्वेतालाना कुजनेतसोवा के बाद जेलेना पहली बार ग्रेंड स्लैम चैंपियन बनने वाली सबसे कम उम्री की खिलाड़ी बनी। स्वेतलाना ने 2004 अमेरिकी ओपन जीता था।

लातवियाई खिलाड़ी जेलेना ओस्तापेंको ने 10 जून 2017 को पेरिस में फ्रेंच ओपन महिला एकल के फाइनल में खिताब की प्रबल दावेदार सिमोना हालेप को शिकस्त दी। जेलेना ने सिमोन को तीन सैट तक चले मुकाबले में 4-6, 6-4, 6-3 से मात दी। इस जीत के साथ ही विश्व रैंकिंग में वह 47वें स्थान से सीधे 12वें स्थान पर पहुंचेगी।

पढ़े: ग्रेंड स्लैम का मतलब

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था।

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण