अतिशा

अतिशा

अतिशाअतिशा एक प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षु और धर्म-प्रचारक था. अतिशा का जन्‍म बंगाल (फिलहाल बांग्‍लादेश) स्थित एक गांव में हुआ. उसके पिता का नाम कल्याण श्री और माता का नाम पद्मप्रभा था. माता-पिता ने उसका नाम चन्द्रगर्भ रखा था.

प्रारंभिक जीवन में अतिशा साधारण गृहस्थ और तारादेवी का उपासक था. युवा होने के बाद उसने बौद्ध सिद्धान्तों का अध्ययन किया और शीघ्र ही बौद्ध धर्म का प्रचुर ज्ञान अर्जित कर लिया. उड्यन्तपुर-बिहार के आचार्य शीलभद्र ने उसे ‘दीपंकर श्रीज्ञान’ उपाधि से विभूषित किया. अतिशा आचार्य के यहां अध्ययन कर रहा था. बाद में तिब्बती लोगों ने उसे अतिशा नाम से पुकारना शुरू कर दिया. शीघ्र ही लोग उसके असली नाम चन्द्रगर्भ को भूल गये और वह अतिशा दीपंकर श्रीज्ञान के नाम से अमर हो गया. वह ३१ वर्ष की आयु में भिक्षु हो गया और अगले १२ वर्ष उसने भारत और भारत के बाहर अध्ययन और योगाभ्यास में बिताये. वह पेगू (बरमा) और श्रीलंका गया. विदेशों में अध्ययन करने के बाद जब वह लौटा तो पालवंश के राजा न्यायपाल ने उसे विक्रमशिला बिहार का कुलपति बना दिया.

अतिशा की विद्वत्ता और धर्मशीलता की ख्याति देश-देशान्तर में फैली और तिब्बत के राजा ने तिब्बत आकर वहां फिर से बौद्ध धर्म का प्रचार करने के लिए उसे निमंत्रित किया. उस समय अतिशा की अवस्था 60 वर्ष की थी, लेकिन तिब्बत के राजा अनवरत आग्रह वह अस्वीकार नहीं कर सका. दो तिब्बती भिक्षुओं के साथ अतिशा ने विक्रमशिला से तिब्बत की कठिन यात्रा नेपाल होकर पूरी की.

तिब्बत में उसका राजकीय स्वागत किया गया. थालोंग का मठ उसको सौंप दिया गया, जहां भारी संख्या में तिब्बती भिक्षु जमा हुए. अतिशा ने १२ वर्ष तक तिब्बत में रहकर धर्म का प्रचार किया. उसने स्वयं तिब्बती भाषा सीखी और तिब्बती और संस्कृत में एक सौ से अधिक ग्रन्थ लिखे. उसकी शिक्षाओं से तिब्बत में बौद्ध धर्म में प्रविष्ट अनेक बुराइयां दूर हो गई. उसके प्रभाव से तिब्बत में अनेक बौद्ध भिक्षु हुए जिन्होंने उसके बाद भी बहुत वर्षों तक धर्म का प्रचार किया. तिब्बती लोगों ने उसकी समाधि ने-थांग मठ में राजकीय सम्मान के साथ बनाई. तिब्बती लोग अब भी अतिशा का स्मरण बड़े सम्मान के साथ करते हैं और उसकी मूर्ति की पूजा बोधिसत्व की मूर्ति की भांति करते हैं. (980-1054)

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था। nohar in rajasthan history and fact. It is know for its historical background and rich culture.

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »
दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन जयपुर

दुर्गापुरा जयपुर के कुछ प्रमुख रेलवे सब रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह जयपुर के दुर्गापुरा इलाके में हैं और जोधपुर, कोटा, मुंबई, इंदौर व श्रीगंगानगर की कई प्रमुख ट्रेन इस स्टेशन से होकर गुजरती हैं या यहां थोड़ी देर के लिए रुकती है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण