राजस्थान के परंपरागत जलस्रोत

कुंए, बावड़ी, सर, सरोवर, नहर, डिग्गी,परंपरागत, जलस्रोत

कुंए, बावड़ी, सर, सरोवर, नहर, डिग्गी,परंपरागत, जलस्रोत

राजस्थान यानी माटी के इस देश का पानी से आंख मिचौली का संबंध रहा है। माटी का यह समंदर कुल मिलाकर पानी की नदियों को तरसा है और यहां के लोगों में पानी को घी की तरह बरतने का सलीका खुद ब खुद आ गया। वक्त के बड़े बुजुर्गों ने यहां यही सीख दी कि घी बिखर जाए तो कोई बात नहीं लेकिन पानी नहीं बिखरे क्योंकि वह अनमोल है। पानी की कद्र करने वाले इस प्रदेश में अगर जल के परंपरागत स्रोत्रों की बात की जाए तो सबसे पहले कुएं आते हैं।

कुंए या कुंआ। आमतौर पर कुंए मीठे पानी के वे स्रोत रहे जिनमें प्राय: साल भर पानी रहा। ज्यादातर कुएं पातालतोड़ यानी बहुत अधिक गहराई वाले रहे। इनसे पानी निकालने के लिए रहट सहित अनेक तरह की विधियां काम में ली जाती थीं। अरावली के पहाड़ी इलाकों के आसपास पड़ने वाले पूर्वी राजस्थान या कहें कि मेवाड़ में कुंए ही पानी का मुख्य स्रोत रहे हैं। आज भी हालात कमोबेश वैसे ही हैं।

तालाब की बात करें। तो तालाब को राजस्थान में सर, सरोवर, जोहड़, जोहड़ी जैसे कई नामों से पहचाना जाता है। बात एक ही है। तालाब जल का प्राकृतिक स्रोत है। तालाब प्राय: निचाण वाली पक्की माटी जमीन में होते हैं जहां बारिश आदि का पानी इकट्ठा हो जाता है जो साल भर काम आता है। (कृपया वीडियो देखें)

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था।

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण