मेन्‍युअल फ्रांसिस दा सेंतोस

ब्राजील के फुटबालर मेन्‍युअल फ्रांसिस दा सेंतोस को उनके उपनाम ग्रिंचा से ही अधिक जाना जाता है. ग्रिंचा (Garrincha) का शब्दिक अर्थ छोटा पक्षी होता है. उनकी पेले के समकक्ष बेहतरीन खिलाडियों में गिनती होती है. उनके खेल की खूबी ड्‍बिलिंग थी. दुनिया भर में उन जैसे ड्रिबलर गिने चुने ही रहे. यह अलग बात है कि दोनों पैर हमारे आपके पैरों की तरह सीधे नहीं थे. आमतौर पर उन्‍हें देखकर लगता ही नहीं था कि वह सीधे खड़े भी हो पायेंगे लेकिन गेंद एक बार पास आने पर उन जैसा ड्रिबलर न था.

अपने चरम समय में ब्राजील में उनकी लोकप्रियता किसी भी अन्‍य खिलाड़ी से अधिक थी. यही कारण है कि वह लोगों के आनंद Alegria do Povo (Joy of the People) तथा Anjo de Pernas Tortas (Angel with Bent Legs) संबोधन से भी जाने गए.

कभी ग्रिंचा, पेले के समकक्ष थे यह अलग बात है कि शराब और शबाब ने उनके जीवन और करीयर को छोटा कर दिया. कई रिश्‍तों से उनके दर्जन से अधिक बच्‍चे हुए.

(28 अक्‍तूबर 1933- 20 जनवरी 1983)

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था। nohar in rajasthan history and fact. It is know for its historical background and rich culture.

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »
दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन जयपुर

दुर्गापुरा जयपुर के कुछ प्रमुख रेलवे सब रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह जयपुर के दुर्गापुरा इलाके में हैं और जोधपुर, कोटा, मुंबई, इंदौर व श्रीगंगानगर की कई प्रमुख ट्रेन इस स्टेशन से होकर गुजरती हैं या यहां थोड़ी देर के लिए रुकती है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण