भारत ने द. अफ्रीका को 130 रन से हराया

विश्व कप का तेरहवां लीग मैच कुल मिलाकर अप्रत्याशित रूप से एकतरफा रहा. ​इसमें भारत ने दक्षिण अफ्रीका की मजबूत टीम को 130 रन के विशाल अंतर से हराया. विश्व कप में भारत की लगातार दूसरी बड़ी जीत रही. इससे पहले उसने पाकिस्तान को हराया था. विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका की यह सबसे बड़ी हार रही. किसी भी विश्व कप में भारत की दक्षिण अफ्रीका पर यह पहली जीत रही.

भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टास जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. मैच के तीसरे ओवर की पांचवीं गेंद पर रोहित शर्मा शून्य पर रन आउट हो गए. लेकिन इसके बाद कोहली 46 और शिखर धवन ने दूसरे विकेट के लिए 127 रन जोड़े. बाकी काम अंजिक्य रहाने ने कर दिया जिन्होंने तीसरे विकेट के लिए धवन के साथ 125 रन जोड़े.

रहाने ने 60 गेंदों में 79 रन बनाए जिसमें सात चौके तीन छक्के शामिल हैं. विश्व कप में यह उनका पहला अर्धशतक था. वहीं ​शिखर धवन ने 14 चौकों व दो छक्कों की मदद से 137 रन बनाए. भारत ने 50 ओवर में कुल मिलाकर सात विकेट खोकर 307 रन बनाए. हां, हाशिम अमला, धवन के एक कठिन से कैच को लपक नहीं पाए थे.

हालांकि मेलबर्न की पाटा पिच और दक्षिण अफ्रीका की बल्लेबाजी को देखते हुए यह कोई बड़ा स्कोर नहीं दिख रहा था. लेकिन मैच में भारतीय गेंदबाजी व क्षेत्ररक्षण कुछ अलग ही दिखे.

तीसरे ओवर की तीसरी गेंद पर क्विंटन कोक (Quinton de Kock) 07 रन पर शमी की गेंद पर कोहली को कैच दे बैठे.

इसके बाद फाफ दु प्लेसिस (Francois du Plessis) व हाशिम अमला ने दूसरे विकेट के लिए 28 रन जोड़े. आमला 22 रन बनाकर मोहित शर्मा की गेंद पर आउट हुए.फाफ 55 ने तीसरे विकेट के लिए एबी डीविलियर्स के साथ 68 रन बनाए. लेकिन खतरनाक होती यह जोड़ी मोहित शर्मा के एक अच्छे थ्रो से टूट गई जबकि डीविलियर्स 30 रन आउट हो गए. इस रन आउट ने तो जैसे मैच का रुख ही पलट दिया. दक्षिण अफ्रीका के बाकी बल्लेबाज नियमित रूप से आउट होते गए. मैच के बाद डीविलियर्स ने स्वीकार किया कि रन आउट टीम को महंगे पड़े.

दक्षिण अफ्रीका की पूरी टीम 44.2 ओवर में 177 रन बना पाई और 130 रन से हार गई.

शिखर धवन मैन आफ द मैच रहे.

विश्व कप के मैचों का ब्यौरा व सूची आप यहां पढ़ सकते हैं.

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था। nohar in rajasthan history and fact. It is know for its historical background and rich culture.

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »
दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन जयपुर

दुर्गापुरा जयपुर के कुछ प्रमुख रेलवे सब रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह जयपुर के दुर्गापुरा इलाके में हैं और जोधपुर, कोटा, मुंबई, इंदौर व श्रीगंगानगर की कई प्रमुख ट्रेन इस स्टेशन से होकर गुजरती हैं या यहां थोड़ी देर के लिए रुकती है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण