आस्ताद देबू

आस्ताब देबू (astab deboo) का नाम भारतीय समकालीन नर्तकों में प्रयोगधर्मी कलाकार के रूप में लिया जाता है.

आस्ताद देबू का जन्म 13 जुलाई 1947 को गुजरात के नवसारी में हुआ. कोलकाता में छह साल की उम्र तक रहने के बाद इनका परिवार जमशेदपुर चला गया वहां इनके पिता टाटा स्टील में नौकरी की जबकि उनकी माँ एक गृहिणी थी, इनकी बहनों का नाम कमल और गुलशन है.

छह साल की उम्र में उन्होंने नृत्य सीखना शुरू कर दिया था. आस्ताद ने कथक की प्रारम्भिक शिक्षा इंद्र कुमार मोहंती से और बाद में प्रहलाद दास से ली. शुरुआती पढाई इन्होने लोयोला स्कूल, जमशेदपुर से बाद में बी कॉम की पढाई पोदार कॉलेज, मुंबई विश्वविद्यालय से की. वह 1969 में समुद्री मार्ग से यूरोप और फिर 1974 में न्यूयार्क चले गए.

वह समकालीन नृत्य सीखन के लिए लंदन स्कूल में गए और मरथा ग्राहम से आधुनिक नृत्य तकनीक सीखा. न्यूयार्क में जोस लिमोन से भी सीखा. यूरोप, अमेरिका, जापान और इंडोनेशिया होते हुए 1977 में वह भारत वापस आए.

आस्ताद देबू ने तिरूवल्ला, केरल में गुरु ई. कृष्णा पनिकर की शिष्यता में कथककली सीखा. वह पिना बाउश (Pina Bausch), एलिसन चेस (Alison Chase) और पिंक फ्लायड (pink floyd) के साथ काम कर चुके हैं. आस्ताद ने सुभाष घई की फिल्म ताल, एमएफ हुसैन के साथ मीनाक्षी सहित कई फिल्मों में नृत्य निर्देशन किया.

आस्ताब देबू डांस फाउंडेशन ने मेलबर्न आस्ट्रेलिया में बीसवें बधिर ओलंपिक मे भी अपनी प्रस्तुति दी थी. वह गैर सरकारी संगठन सलाम बालक के 14 बच्चों को लेकर नृत्य प्रस्तुति ब्रेकिंग बाउंडरीज Breaking Boundaries तैयार कर चुके हैं और कई जगह प्रदर्शन कर चुके हैं. इन्हें 1995 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और 2007 में पद्मश्री से नवाजा गया.

यह भी पढ़े

nohar rajasthan history - नोहर राजस्थान

नोहर : सेठों का नगर

नोहर का इतिहास (nohar town) को वैदिक काल में सात नदियों से सिंचित सप्त सैन्धव नामक इलाके का हिस्सा था। nohar in rajasthan history and fact. It is know for its historical background and rich culture.

Read More »
टिकटॉक कैसे चलेगा

टिकटॉक हो गया बैन?

इस मामले में अदालत का अंतिम फैसला आने तक टिक टॉक चलता रहेगा। हां नये लोग गूगल या एपल के एप स्टोर से इस एप को अब डाउनलोड नहीं कर पा रहे। लेकिन जिनके मोबाइल में यह पहले से ही वे इसका इस्तेमाल जारी रख सकते हैं।

Read More »
मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका जयपुर

मयूर वाटिका या पीकॉक गार्डन मालवीय नगर के पास जेएलएन मार्ग पर है। इसमें अनेक रूपों में मोर बने हैं। पार्क सुबह से लेकर देर रात शाम तक खुला रहता है। सुबह शाम यहां फव्वारे भी चलते हैं। यह पार्क जेएलएन मार्ग पर फ्लाईओवर के नीचे दोनों ओर है।

Read More »
दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन

दुर्गापुरा रेलवे स्टेशन जयपुर

दुर्गापुरा जयपुर के कुछ प्रमुख रेलवे सब रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह जयपुर के दुर्गापुरा इलाके में हैं और जोधपुर, कोटा, मुंबई, इंदौर व श्रीगंगानगर की कई प्रमुख ट्रेन इस स्टेशन से होकर गुजरती हैं या यहां थोड़ी देर के लिए रुकती है।

Read More »

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सांगोपांग को दोस्तों में शेयर करें!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

राजस्थानी संस्कृति

Sangopang English

कला संसार

राजस्थान भ्रमण