ऐसे बनाएं आधार की वर्चुअल आईडी

virtual id, aadhaar virtual id, aadhar virtual id,
आधार की आभासी पहचान यानी वर्चुअल आईडी या वीआईडी 16 अंकों की एक संख्या है। हम अपनी आधार संख्या किसी को बताने के बजाय इस वीआईडी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

वर्चुअल आईडी या वीआईडी अस्थायी है यानी कुछ समय बाद खुद ब खुद समाप्त हो जाती है और उपयोक्ता को नये सिरे से इसे बनाना पड़ता है। मोबाइल नंबर सत्यापन सहित उन अनेक कामों जहां आधार संख्या बताने की जरूरत पड़ती है वहां इस वीआईडी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

अब बात करें इसका फायदा क्या है? वर्चुअल आईडी यानी वीआईडी का फायदा यह है कि आपका मूल आधार नंबर सुरक्षित रहता है। किसी को वह संख्या बताए बिना भी आधार से जुड़ा काम किया जा सकता है उससे जुड़ी सुविधाएं ली जा सकती हैं।

इसके लिए यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाकर वीआईडी बनानी पड़ती है। याद रखें कि वीआईडी आधार को सुरक्षित व गोपनीय रखने का तरीका है। आपको आवंटित आधार तो वही रहेगा बस उसकी जगह इस वीआईडी का इस्तेमाल फौरी तौर पर किया जा सकता है।

शुरू में वीआईडी का उपयोग उपयोक्ता अपने पते को आनलाइन अपडेट करने के लिए कर सकता है।

दोस्तों के साथ शेयर करें!
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Share on LinkedIn
Linkedin

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,